मधुमेह होने पर कौन सा भोजन नही करना चाहिए ?

सुगर फूड्स

सुगर फूड्स

मधुमेह होने पर कौन सा भोजन नही करना चाहिए ?

मधुमेह  एक ऐसी स्थिति है जिसके कारण व्यक्ति के शरीर में शर्करा का स्तर अधिक होता है। टाइप-2 मधुमेह  के लिए, आपका शरीर इंसुलिन  के लिए प्रतिरोधी हो जाता है, जो रक्त में शर्करा का निर्माण करता है। मधुमेह हानिकारक है और स्थिति न केवल हृदय, आंखों और शरीर के अन्य अंगों को प्रभावित कर सकती है, बल्कि उच्च रक्तचाप ,  स्ट्रोक और संक्रमण होने की संभावना को भी बढ़ाती है। इससे आपको कम ऊर्जा का अनुभव भी हो सकता है।आपका आहार आपको   मधुमेह  जैसी स्थिति के लक्षणों से राहत देने में मदद कर सकता है। यदि आपको मधुमेह है, तो ऐसे आहार को चुने जिसमे चीनी  की मात्रा कम हो , यदि आपको टाइप 2 मधुमेह  है, तो इससे बचने के लिए खाद्य पदार्थों की सूची यहाँ दी गई है

अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है तो इन भोजनों के सेवन से बचे

 1. सुगर फूड्स

मधुमेह  होने पर ऐसे खाद्य पदार्थों से दूर रहें जिनमें बहुत अधिक चीनी  होती है ताकि आपका रक्त शर्करा भी कम न हो। कैंडी, मिठाई और सोडा  केवल वजन  बढ़ाने और समस्या को बढ़ावा देता है । यदि आप कुछ चीनी  का खाना चाहते है , तो इसके बजाय फल  का सेवन करे । आपको न केवल प्राकृतिक चीनी मिलेगी जो उस दर को धीमा कर देती है जिसमें चीनी  अवशोषित होती है, बल्कि फाइबर भी होती है।  

फलों का रस

यदि  आपको   टाइप 2 मधुमेह  है तो  फलो  का रस आपके लिए  नुकसानदायक है,  फलों में  चीनी  की अधिक मात्रा है, लेकिन फाइबर नहीं है। सोडा की तुलना में यह एक बेहतर विकल्प हो सकता है लेकिन यह आपके रक्त शर्करा को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ा देगा।   इसके बजाय, थोड़ा सा नींबू का रस का उपयोग करे 

3 . सफेद चावल, रोटी, और आटा

 सफेद चावल और सफेद आटा पौष्टिक नहीं होते हैं। वे अत्यधिक संसाधित और परिष्कृत साबुत अनाज के परिणामस्वरूप होते हैं, एक प्रक्रिया जो पूरे अनाज को फाइबर खो देती है। इन खराब कार्ब्स को खाने से ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाएगा क्योंकि वे आपके शरीर में शर्करा में टूट जाएंगे। जंगली चावल या अनाज और साबुत अनाज की रोटी जैसे खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले साबुत अनाज  का सेवन करे ।

4-तले हुए खाद्य पदार्थ

तले हुए खाद्य पदार्थ बहुत स्वादिष्ट हो सकते हैं, लेकिन वे समान रूप से खतरनाक हैं। उनमें वसा और कैलोरी बहुत होती है। वे आपके वजन  में वृद्धि करते हैं और आपके रक्त शर्करा के बढ़ने का कारण बनेंगे। विभिन्न तले हुए खाद्य पदार्थ लोगों को अलग तरह से प्रभावित करते हैं। फ्राइड चिकन की तुलना में फ्रेंच फ्राइज़, उदाहरण के लिए, रक्त शर्करा को तेजी से बढ़ाएगा क्योंकि आलू शुद्ध कार्बोहाइड्रेट होते हैं जबकि तला हुआ चिकन में कुछ प्रोटीन होता है। 

5-मीठा नाश्ता अनाज

यदि आपको मधुमेह  है तो आप नाश्ते के लिए अनाज से बचना चाहते हैं। । अनाज में अधिकांश लोगों की तुलना में अधिक कार्ब्स होते हैं, यहां तक ​​कि एहसास भी होता है। आपके पास इतना प्रोटीन  भी नहीं है कि आप उसे अधिक समय तक पूरा रख सकें। इसलिए, अपने रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखने के लिए, इन अनाजों को छोड़ना और प्रोटीन आधारित नाश्ते के लिए जाना बेहतर है जो कार्ब्स में कम है।

6-मांस का मोटा टुकड़ा  

मांस में संतृप्त वसा का उच्च स्तर भी होता है। इसके कुछ स्तर शरीर में सूजन बढ़ा सकते हैं और हृदय रोग होने का खतरा बढ़ा सकते हैं। जिन्हें पहले से दिल की बीमारी है, उनके लिए यह और भी बुरा है।  सोडियम रक्तचाप  बढ़ा सकता है और इंसुलिन प्रतिरोध को जन्म दे सकता है। उपस्थित नाइट्रेट्स भी इंसुलिन  प्रतिरोध का कारण बन सकते हैं। यदि आप वास्तव में मांस खाना चाहते हैं, तो इसके बजाय मछली, टर्की या त्वचा रहित चिकन चुनें

7- शराब

यदि आपको मधुमेह  है, तो आपको या तो पूरी तरह से शराब से दूर रहना चाहिए । शराब के विभिन्न स्तर रक्त शर्करा के बढ़ने या गिरने का कारण बनते हैं। कुछ मधुमेह की गोलियाँ ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए अग्न्याशय द्वारा अधिक इंसुलिन  उत्पादन को प्रोत्साहित करेगी। शराब और दवा के संयोजन से हाइपोग्लाइसीमिया या इंसुलिन झटका हो सकता है। 

8-पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद

 मधुमेह  से पीड़ित लोगों के लिए हृदय रोग एक बड़ी चिंता है। पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद  , संतृप्त वसा में उच्च होते हैं, इंसुलिन  प्रतिरोध को बढ़ाते हैं जो चीजों को बदतर बनाता है। तो, उस पूर्ण वसा वाले दही, क्रीम, आइसक्रीम, मक्खन या पनीर को छोड़ दें । 

जीवनशैली

उपयुक्त आहार और व्यायाम मधुमेह की देखभाल की नींव है जिसमें व्यायाम की मात्रा अधिक होने पर बेहतर परिणाम मिलता है। ऐरोबिक्स व्यायाम HbA1C में कमीं लाता है और इंसुलिन संवेदनशीलता को बेहतर करता है। प्रतिरोध प्रशिक्षण भी उपयोगी है और दोनो प्रकार के व्यायामों का संयोजन भी काफी प्रभावी हो सकता है। एक मधुमेह संबंधी आहार जो वजन में कमी लाने को बढ़ावा देता है महत्वपूर्ण होता है। जबकि इसको हासिल करने के लिये सर्वश्रेष्ठ आहार प्रकार को लेकर विवाद है एक न्यून ग्लाइसेमिक सूचकांक आहार रक्त शर्करा नियंत्रण को बेहतर करने वाला पाया गया है। कम से कम 6 महीनों तक, सांस्कृतिक रूप से उपयुक्त शिक्षा, टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित लोगों को उनकी रक्त शर्करा स्तरों को कम करने में सहायता कर सकती हैं। यदि हल्के मधुमेह से पीड़ित लोगों में जीवनशैली में बदलाव करने से 6 महीने में रक्त शर्करा बेहतर न हो तो दवाओं के उपयोग पर विचार किया जाना चाहिये।

दवायें

Metformin 500mg tablets

मधुमेह विरोधी दवाओं के बहुत से वर्ग उपलब्ध हैं। मेटामॉर्फिन को आम तौर पर प्रथम पंक्ति के उपचार के रूप में अनुशंसित किया जाता है, क्योंकि इस बात के कुछ साक्ष्य मिलते हैं कि यह मृत्यु-दर कम करती है। यदि मेटामॉर्फिन पर्याप्त न हो तो, एक अन्य वर्ग का दूसरा मौखिक एजेन्ट उपयोग किया जा सकता है। दवाओं के दूसरे वर्गों में निम्नलिखित शामिल है: सल्फोनिलयूरियासनॉन सल्फोनिलयूरियास सीक्रेटागॉग्सअल्फा ग्लूकोसिडेस इन्हेबिटर्सथायाज़ोल्डिनीयोड्सग्लूकागॉन-लाइक पेप्टाइड-1 एनालॉग और डाइपेप्टाइडियल पेप्टिडेज़-4 इन्हेबिटर्स मेटामॉर्फिन को उन लोगो पर नहीं उपयोग किया जाना चाहिये जिनको गुर्दे या यकृत की गंभीर समस्या है। इंसुलिन के इंजेक्शन को दवाओं के साथ दिया जा सकता है या अकेले ही दिया जा सकता है।

अधिकतर लोगों को आरंभिक रूप से इंसुलिनकी जरूरत नहीं पड़ती है। जब इसका उपयोग किया जाता है तो रात के समय एक दीर्घ समय तक काम करने वाला फॉर्म्युलेशन आम तौर पर जोड़ा जाता है, जिसके साथ मौखिक दवायें चालू रहती हैं। फिर खुराकों को प्रभावी होने के लिये बढ़ाया जाता है (रक्त शर्करा स्तर को सही ढ़ंग से नियंत्रित करने के लिये)। जब रात को दिया जाने वाला इंसुलिन अपर्याप्त होता है तो बेहतर नियंत्रण के लिये दैनिक इंसुलिन दिन में दो-बार दिया जा सकता है। दीर्घ समय तक काम करने वाले इंसुलिन, ग्लैरजीन और डेटेमिर, न्यूट्रल प्रोटामाइन हेजाडॉर्न (NPH) इंसुलिन से बेहतर नहीं लगता है लेकिन इनको बनाने की लागत महत्वपूर्ण रूप से अधिक होती है, 2010 तक यह लागत प्रभावी नहीं है। वे जो गर्भवती हैं, उनके लिये इंसुलिन उपचार का बेहतर उपाय है।

शल्यक्रिया

वे लोग जो मोटे हैं उनके मधुमेह उपचार के लिये वज़न घटाने वाली शल्य क्रिया प्रभावी उपाय है। बहुत से लोग शल्य क्रिया के बाद थोड़ी दवा या बिना दवा के सामान्य रक्त शर्करा स्तरों को बनाये रखने में सक्षम रहे हैं और उनमें जीवन का खतरा भी दीर्घ अवधि में घट जाता है हलांकि कुछ लोगों में शल्य क्रिया के कारण लघु अवधि में जीवन का खतरा 1% से कम होता है। शल्य क्रिया कब की जाये यह तय करने के लिये शरीर भार सूचकांक मान का निर्धारण अभी भी अस्पष्ट है। हलांकि इस बात की अनुशंसा की जाती है कि यह विकल्प उन लोगों के लिये चुना जाये जो अपने भार और रक्त शर्करा को नियंत्रित कर पाने में सक्षम नहीं हैं।

महामारी-विज्ञान

2000 में पूरी दुनिया में (प्रति 1000 निवासियों पर) मधुमेह की उपस्थिति। वैश्विक औसत 2.8% थी।

██ no data██ ≤ 7.5██ 7.5–15██ 15–22.5██ 22.5–30██ 30–37.5██ 37.5–45
██ 45–52.5██ 52.5–60██ 60–67.5██ 67.5–75██ 75–82.5██ ≥ 82.5

2010 में वैश्विक रूप से यह अनुमान था कि 285 मिलियन लोगों को टाइप 2 मधुमेह था जो कुल मधुमेह मामलों का 90% था।यह पूरी दुनिया की वयस्क जनसंख्या का लगभग 6% है। मधुमेह विकसित और विकासशील दुनिया, दोनो में आम है। हलांकि अविकसित दुनिया में यह आम नहीं है।

कुछ जातीय समूहों में महिलायें अधिक जोखिम वाली स्थिति में होती हैं, जैसे दक्षिण एशियाईप्रशांत द्वीपवासीलैटिनोस और मूल अमरीकी। ऐसा कुछ जातीय समूहों में पश्चिमी जीवनशैली के प्रति बढ़ी हुयी संवेदनशीलता के कारण हो सकता है। पारंपरिक रूप से वयस्कों का रोग माना जाने वाला टाइप 2 मधुमेह का अब बच्चों में निदान बढ़ रहा है ऐसा मोटापे की दरों में वृद्धि के समांतर हो रहा है। संयुक्त राज्य अमरीका में किशोरों में अक्सर टाइप 2 मधुमेह का टाइप 1 मधुमेह के रूप में निदान हो रहा है।

1985 में मधुमेह पीड़ितों की संख्या का अनुमान 30 मिलियन था जो कि 1995 में बढ़कर 135  मिलियन हो गया और 2005 में 217 मिलियन। ऐसा विश्वास है कि यह वृद्धि मुख्य रूप से वैश्विक रूप से उम्र में वृद्धि, व्यायाम में कमीं और मोटापे की दर में वृद्धि के कारण है। वे पांच देश जहां पर 2000 में मधुमेह के सबसे अधिक रोगी थे वे हैं: भारत 31.7 मिलियन, चीन 20.8 मिलियन, संयुक्त राज्य अमरीका 17.7 मिलियन, इंडोनेशिया 8.4 मिलियन और जापान 6.8 मिलियन। इसको विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा वैश्विक महामारी के रूप में मान्यता दी गयी है।

इतिहास

मधुमेह उन पहले रोगों में से एक है जिनका वर्णन c. BCE 1500 की मिस्री पांडुलिपि में “अत्यधिक मूत्र विसर्जन” के रूप में किया गया है। ऐसा विश्वास है कि पहले वर्णित मामले टाइप 1 मधुमेह के हैं। लगभग इसी समय भारतीय चिकित्सकों नें भी इस रोग की पहचान की थी और इसे “मधुमेह” या “हनी यूरिन” के रूप में वर्गीकृत किया था ऐसा यह देखने का बाद किया था कि रोगी के मूत्र के पास चीटिंयां एकत्र हो रही थीं। शब्द “डायबिटीज़” या “गुज़र जाना” को सबसे पहले 230 BCE में ग्रीक मेम्फिज़ के पोलोनियसद्वारा इस्तेमाल किया गया था। यह रोग रोमन साम्राज्य के दौरान बेहद कम होता था और गालेन ने कहा कि उन्होने अपने पूरे कैरियर के दौरान ऐस रोग से पीड़ित सिर्फ दो लोगों को देखा था।

टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह को सबसे पहले भारतीय चिकित्सक सुश्रुत और चरक द्वारा 400-500 ईस्वी में पहचाना गया था जिसमें से टाइप 1 युवाओं से और टाइप 2 अधिक वजन से संबंधित था। शब्द “मेलिटस” या “शहद से” सबसे पहले ब्रिंटन जॉन रोल द्वारा 1700 के अंत में डायबेटस इन्सिपिडस से अंतर करने के लिये उपयोग किया गया था जो कि बार-बार मूत्र उत्सर्जन से संबंधित है।प्रभावी उपचार बीसवी सदी के शुरुआती हिस्से तक विकसित नहीं किया जा सका था। जब कनेडियाई फ्रेडरिक बैन्टिंगऔर चार्ल्स बेस्ट ने इंसुलिन को 1921 तथा 1922 में खोजा था। इसके बाद दीर्घ प्रभावी NPH इंसुलिन को 1940 में विकसित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *