Sun. Sep 27th, 2020

डायबिटीज से बचना है तो खाए ब्राउन राईस

चावल में कैलोरी की मात्रा बहुत अधिक होती है. ऐसे में कई बार लोग इसे खाने से परहेज करते हैं. खासतौर पर वो लोग जिन्हें डायबिटीज की शिकायत है. लेकिन अगर आपको चावल खाना पसंद है और हेल्थ की वजह से आप चावल नहीं खा पा रहे हैं तो ब्राउन राइस आपके लिए बेहतर विकल्प रहेंगे.

मधुमेह के जोखिम वाले लोगों को अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा पर ध्यान देना चाहिए और परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट को साबुत अनाज से बदल देना चाहिए।

दरअसल डायबिटीज के रोगियों के लिये खाने पीने में बड़ी समस्या होती है। लेकिन इनके लिये ब्राउन राइस को बहुत अच्‍छा माना जाता है। मगर समस्या ये है कि  हमें यह नहीं मालूम होता कि ब्राउन राइस को अपनी डेली डाइट में कैसे व्हाइट राइस को कम कर ब्राउन को शामिल किया जाए। ब्राउन राइस में फ्राइबर होता है जो मधुमेह के साथ-साथ कैंसर के खतरे को कम करता है और अतिरिक्त वजन को भी कम करता है। ब्राउन राइस को बिना पॉलिश का चावल भी कहाते हैं। ब्राउन राइस को व्हाइट राइस की तरह प्रोसेस नहीं किया जाता बल्कि सिर्फ बाहरी छिलके उतारे जाते हैं। इसलिये चावल में मौजूद भूसी वैसी की वैसी ही रहती है। ब्राउन राइस में प्रचुर मात्रा में फाइबर, विटामिन और मिनरल होते हैं। ब्राउन राइस में लगभग 300 एन्‍जाइम्‍स होते है जो शरीर में ग्‍लूकोज और इंसुलिन की मात्रा को बनाएं रखते है। तो यदि आप चाहते हैं कि आपका कॉलेस्ट्रॉल लेवल सही बना रहे तो सफेद चावल की जगह ब्राउन राइस खाने की आदत डालें।

यदि आप हर सप्ताह सफेद चावल के दो सामान्य सर्विंग्स खाते हैं, तो सफेद चावलों की जगह ब्राउन राइस खाना शुरू करने से टाइप 2 मधुमेह का खतरा 16 प्रतिशत तक कम होता है। और वहीं यदि आप इन सफेद चावल की सर्विंग की जगह साबुत अनाज खाएं तो टाइप 2 मधुमेह का खतरा 36 प्रतिशत तक कम होता है।

भारत में हुए एक और ट्रायल के दौरान अधिक वजन / मोटापे से ग्रस्त व्यक्तियों में जब सफेद चावल के सेवन की तुलना ब्राउन राइस से की गई तो, पाया गया कि इन लोगों में सफेद की जगह ब्राउन का सेवन करने से ग्लूकोज का स्तर और सीरम इंसुलिन में कभी आई।

ब्राउन राईस खाने के फायदे

वजन घटना

ब्राउन राइस में तुलनात्मक रूप से कम कैलोरी होती है. लेकिन इसमें फाइबर की भरपूर मात्रा होती है जिससे मेटाबॉलिजम बेहतर होता है. अगर आप वजन घटाने की सोच रहे हैं तो ब्राउन राइस खाना आपके लिए फायदेमंद रहेगा.

कोलेस्ट्राल लेवल  कम करने  में  सहायक

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ जाने से दिल से जुड़ी बीमारियों के होने की आशंका काफी बढ़ जाती है. ब्राउन राइस कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मददगार है. इससे धमनियां ब्लॉक नहीं होती हैं और दिल से जुड़ी बीमारियों  के  हो जाने  का  खतरा  कम  हो जाता है

हड्डियों  की  मजबूती के  लिए

ब्राउन राइस में मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा पायी जाती है. मैग्नीशियम हड्डियों के लिए आवश्यक तत्व है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *