Fri. Jun 5th, 2020

मधुमेह क्या है ?

diabetes

मधुमेह

मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो तब होती है जब आपके रक्त में शुगर की मात्रा  अधिक  हो जाती  है । रक्त ग्लूकोज आपकी ऊर्जाका मुख्य स्रोत है और आपके द्वारा खाए गए भोजन से आता है। इंसुलिन, एक हार्मोन जो अग्न्याशय द्वारा बनाया जाता है, भोजन से ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं में ऊर्जा के लिए उपयोग करने में मदद करता है। कभी-कभी आपका शरीर पर्याप्त इन्सुलिन नहीं बनाता है – या कोई-इंसुलिन या अच्छी तरह से इंसुलिन का उपयोग नहीं करता है। तब ग्लूकोज आपके रक्त में रहता है और आपकी कोशिकाओं तक नहीं पहुंचता है। समय के साथ, आपके रक्त में बहुत अधिक ग्लूकोज होने से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

हालाँकि मधुमेह का कोई इलाज नहीं है,फिर भी आप अपने मधुमेह के प्रबंधन और स्वस्थ रहने के लिए कदम उठा सकते हैं। कभी-कभी लोग मधुमेह को “चीनी का एक स्पर्श” या “बॉर्डरलाइन डायबिटीज” कहते हैं। इन शब्दों से पता चलता है कि किसी को वास्तव में मधुमेह नहीं है या कम गंभीर मामला है, लेकिन मधुमेह का हर मामला गंभीर है।

 मधुमेह के लक्षण

  • अत्यधिक प्यास और भूख
  • लगातार पेशाब आना
  • वजन में कमी या दाना
  • थकान
  • चिड़चिड़ापन
  • धुंधली दृष्टि
  • धीरे-धीरे घाव भरना
  • त्वचा में संक्रमण
  • सांस की गंध जो फ्रूटी स्वीट या एसीटोन की गंध पर होती है
  • बहुत प्यास लग रही है
  • भूख भी बहुत लगती है
  • हालांकि आप खा रहे हैं
  • अत्यधिक थकान

मधुमेह के प्रकार

मधुमेह रूप से तीन प्रकार की होती है

  1.  टाइप 1 मधुमेह
  2. टाइप 2  मधुमेह
  3. गर्भावधि मधुमेह

टाइप  1 मधुमेह

टाइप 1 मधुमेह किसी भी उम्र में विकसित हो सकता है लेकिन बच्चो में और किशोरों में  सबसे अधिक बार होता है. जब आपको टाइप 1 डायबिटीज होता है तो आपका शरीर बहुत कम या बिना इन्सुलिन पैदा करता है जिसका मतलब है की आपको नियंत्रण में रक्त शर्करा के स्तर को बनाये रखने के लिए रोज इन्सुलिन इंजेक्शन की जरूरत होती है

मधुमेह वाले सभी लोगो में से लगभग 10% को टाइप 1 डायबिटीज है

टाइप 1 मधुमेह  एक स्व- प्रतिरछित प्रतिक्रिया की वजह से होता है जहाँ शरीर की रक्षा प्रणाली इन्सुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाओ पर हमला करती है जिससे शरीर बहुत  कम या कोए इन्सुलिन पैदा करता है

टाइप 1 मधुमेह  किसी भी उम्र में लोगो को प्रभावित कर सकता है लेकिन जादातर बच्चो या युवा व्यस्को में विकसित होता है टाइप 1 मधुमेह  वाले लोगो को अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए इन्सुलिन के रोज इंजेक्शन की जरूरत होती है . यदि वे लोग इन्सुलिन तक पहुँच नही रखते है तो वो मर जायेगे

टाइप  2  मधुमेह

टाइप 2 डायबिटीज  वयस्कों में अधिक आम है और सभी डायबिटीज  के मामलों में लगभग 90% है जब आपको टाइप 2 मधुमेह होती है, तो आपका शरीर अपने द्वारा निर्मित इंसुलिन का अच्छा उपयोग नहीं करता है टाइप 2 मधुमेह   उपचार की आधारशिला स्वस्थ जीवन शैली है, जिसमें शारीरिक गतिविधि और स्वस्थ आहार शामिल हैं जबकि , समय के साथ टाइप 2 मधुमेह  वाले अधिकतर लोगों को अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए मौखिक दवाओं और या इंसुलिन की जरूरत  होगी

टाइप 2 मधुमेह मधुमेह का सबसे आम प्रकार है, सभी मधुमेह के मामलों में लगभग 90% के लिए जिम्मेदार है

यह आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध की विशेषता है, जहां शरीर पूरी तरह से इंसुलिन का जवाब नहीं देता है क्योंकि इंसुलिन ठीक से काम नहीं कर सकता है, रक्त शर्करा का स्तर बढ़ता रहता है, जिससे अधिक इंसुलिन निकलता रहता है टाइप 2 मधुमेह वाले कुछ लोगों के लिए यह अंततः अग्न्याशय को समाप्त कर सकता है, जिसके बाद  शरीर से  कम इंसुलिन का उत्पादन करता है, जिससे उच्च रक्त शर्करा का स्तर (हाइपरग्लाइकेमिया) भी होता है

टाइप 2 मधुमेह का निदान आमतौर पर बड़े वयस्कों में किया जाता है, लेकिन मोटापा, शारीरिक निष्क्रियता और खराब आहार के बढ़ते स्तर के कारण बच्चों, किशोरों और छोटे वयस्कों में तेजी से देखा जाता है

टाइप 2 मधुमेह प्रबंधन की आधारशिला एक स्वस्थ आहार है, शारीरिक गतिविधि में वृद्धि और शरीर के स्वस्थ वजन को बनाए रखना है रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद के लिए मौखिक दवा और इंसुलिन भी अक्सर निर्धारित होते हैं

गर्भावधि मधुमेह

गर्भावधि डायबिटीज  (जीडीएम) एक प्रकार का मधुमेह   है जिसमें गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्त शर्करा होता है और यह माता और बच्चे दोनों के लिए जटिलताओं से जुड़ा होता है जीडीएम आमतौर पर गर्भावस्था के बाद गायब हो जाता है लेकिन प्रभावित महिलाओं और उनके बच्चों को जीवन में बाद में टाइप 2 मधुमेह   के विकास का खतरा होता है

गर्भकालीन मधुमेह मेलेटस (जीडीएम) मातृ और बाल स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरा है जीडीएम के साथ कई महिलाएं गर्भावस्था से संबंधित जटिलताओं का अनुभव करती हैं, जिसमें उच्च रक्तचाप, बड़े जन्म के बच्चे और बाधित श्रम शामिल है  जीडीएम के इतिहास वाली लगभग आधी महिलाएं प्रसव के बाद पांच से दस साल के भीतर टाइप 2 मधुमेह   का विकास करती हैं

मधुमेह  के  कारण  और  जोखिम  कारक

  • अगर आपके परिवार में किसी को मधुमेह  है, तो आपको भी मधुमेह  होने का ख़तरा हो सकता है।
  • ज़्यादा तला या बाहर का खाना खाने से बढ़ता हुआ वज़न भी मधुमेह का कारण है।
  • व्यायाम या कोई शारीरिक श्रम ना करना।
  • ज़्यादा मीठा खाना।
  • अगर कोई ह्रदय संबंधी बीमारी है, तो मधुमेह  हो सकती है।
  • अगर गर्भावस्था के दौरान मधुमेह  हुई हो या शिशु का वज़न 9 पौंड से ज्यादा हो तो आगे चलकर टाइप 2 मधुमेह  होने की आशंका बढ़ जाती है।
  • बढ़ती उम्र से भी मधुमेह  हो सकती है।

मधुमेह का इलाज

  1. इंसुलिन – कई टाइप-1 और टाइप-2 मधुमेह  के मरीज़ इंसुलिन के इंजेक्शन का उपयोग करते हैं। इसके अलावा डॉक्टर इंसुलिन पंप की भी सलाह देते हैं।
  1. सही खान-पान – मधुमेह के मरीज़ों को अपने खान-पान का ख़ास ख़्याल रखना चाहिए। इसलिए, डॉक्टर मधुमेह  के लिए एक विशेष आहार चार्ट बनाते हैं और उसी के अनुरुप खान-पान की सलाह देते हैं। खाने में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, गाजर, टमाटर, संतरा, केला व अंगूर खा सकते हैं। इसके अलावा अंडा, मछली, चीज़ और दही का भी सेवन करने की सलाह दी जाती है।
  1. व्यायाम – खाने-पीने के अलावा डॉक्टर व्यायाम और योगासन करने की भी राय देते हैं। फिज़िकल एक्टिविटी करने से ब्लड ग्लूकोज़ लेवल संतुलित रहता है और आपका शरीर स्वस्थ रहता है। डॉक्टर, मधुमेह  के मरीज़ों को चलने, सुबह की सैर और हल्का-फ़ुल्का व्यायाम करने की राय देते हैं। यह मधुमेह  के इलाज के सबसे आसान तरीके हैं।
  1. दवाइयां – मधुमेह के मरीज़ों को दवाइयां की भी सलाह दी आती है। डॉक्टर, मरीज़ की बीमारी के अनुसार ही दवाई देते हैं।

मधुमेह के घरेलू उपचार

आम की पत्तियां

मधुमेह के मरीजों को आम  के पत्तियों का सेवन करना चाहिए , इसकी पत्तियां बीमारी की रोकथाम में अहम भूमिका निभा सकती हैं। दरअसल, आम की पत्तियां ग्लूकोज सोखने की आंत की क्षमता घटाती हैं। इससे खून में शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। आम की पत्तियां सुखाकर पाउडर बना लें। खाने से एक घंटे पहले पानी में आधा चम्मच घोलकर पीएं।

दालचीनी

दालचीनी एक मसाला ही नहीं, बल्कि एक औषधि भी है। दालचीनी कैल्शियम और फाइबर का एक बहुत अच्छा स्रोत है। दालचीनी मधुमेह को सन्तुलित करने के लिए एक प्रभावी ओषधि है, इसलिए इसे गरीब आदमी का इंसुलिन भी कहते हैं। दालचीनी ना सिर्फ खाने का जायका बढ़ाती  है, बल्कि यह शरीर में रक्त शर्करा को भी नियंत्रण में रखता है। जिन लोगों को मधुमेह नहीं है वे इसका सेवन करके मधुमेह से बच सकते हैं। और जो मधुमेह के मरीज हैं वे इसके सेवन से ब्लड शुगर को कम कर सकते है। 1 कप पानी में दालचीनी पाउडर को उबालकर, छानकर रोजाना सुबह पियें। इसे कॉफी में भी मिलाकर पी सकते हैं। इसे सेवन करने से मधुमेह में लाभ होगा।

ग्रीन-टी

टाइप 1 मधुमेह के रोगियों के लिए ग्रीन टी बहुत फायदेमंद होती है क्‍योंकि ग्रीन टी में एंटीआक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं। जो शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में मददगार होते हैं।  रोज कम से कम आधा कप ग्रीन टी पीने से टाइप 1 मधुमेह की बीमारी से आराम मिलता हैं

मेथी  के  दाने

प्रतिदिन 10 ग्राम मेथी दाने को गर्म पानी पीने से टाइप-2 मधुमेह को कंट्रोल किया जा सकता है। मेथी दाने का पानी इतना हेल्दी होता है कि इसे पीने से ब्लड शुगर लेवल कम होने लगता है। इसमें काफी मात्रा में फाइबर होता है जो पाचन क्रिया को तेज करता है। इसके साथ ही यह शरीर द्वारा शुगर के इस्तेमाल को भी बेहतर करता है।मेथी दाना का पानी बनाना बहुत ही आसान है। एक से डेढ़ चम्मच मेथी दानों को रात को एक गिलास में पानी डालकर भिगो दें। सुबह उठकर इस पानी को अच्छे से छान लें और फिर इसे खाली पेट पिएं। इससे शरीर का ब्लड शुगर लेवल नियत्रित रहता है और मधुमेह को कंट्रोल करने में मददगार है। मेथी में मौजूद गेलेक्टोमैनन नामक फाइबर, खून में शुगर के अवशोषण को कम करता है।

1 thought on “मधुमेह क्या है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *